Pages

Sunday, September 19, 2010

roop_theblogger: मै हूँ !

roop_theblogger: मै हूँ !: "सखा मेरे ,मुझे पाओगे तुम-नग्न शिशुओं की भीड़ मे ,मैं वहीँ हूँ ! प्रेम के मंदिर मे,तूफ़ानो के परिचित जगत मे,प्रतिदिन तुम्हारे व मेरे-सुखी दिन..."

kaise prakat karen apne udgar, jabki bandishen hazaron hai zindagi ki.ab to karar pane ko bekarar hain, chain shayad hi payenge kabhi..........................

2 comments:

अजय कुमार झा said...

रूप जी ,
स्वागत है आपका ....और शुभकामनाएं

काजल कुमार Kajal Kumar said...

:)