Pages

Wednesday, February 16, 2011

                                                                 मैं 

 
                                                                मैं,
                                                   नदी का तीर नहीं,
                                                 जो तुम्हारी प्यास बुझाऊं 
                                                  ना ही ओस की बूँद हूँ , 
                                                  जो सीपी में गिरकर 
                                                   मोती का रूप पाऊं 
                                                           मैं,
                                                  वह नींद भी नहीं ,
                                               जो ख्वाबों के बाग़ सजाकर 
                                               तुम्हारी उन्मुक्तता के गीत गाऊं.
                                               ना ही बादल का वो टुकड़ा हूँ ,
                                               जो रिमझिम फुहार बरसाउं.
                                               मैं ,बासंती गुलाल भी नहीं  ,
                                                जो तुम्हारे चेहरे की
                                              रंगत में उजास लाऊं 
                                                   मैं तो वह अंगारा हूँ ,
                                                 जो तुम्हारे हृदय की
                                              तपिश को और बढ़ाऊंगा 
                                                तुम्हें ठोकर देकर ही 
                                              "मंदिर का देव"बनाऊंगा !

9 comments:

Naveen said...

nice lines sir
thanx for sharing with us..

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

तुम्हें ठोकर देकर ही
"मंदिर का देव"बनाऊंगा ...

खूबसूरत अभिव्यक्ति ...कठोर संयम को बताती अच्छी रचना

: केवल राम : said...

मैं तो वह अंगारा हूँ ,
जो तुम्हारे हृदय की
तपिश को और बढ़ाऊंगा
तुम्हें ठोकर देकर ही
"मंदिर का देव"बनाऊंगा !

आपकी कविता में जिस भाव बोध को अभिव्यक्ति मिली है ...निश्चित रूप से गंभीरता और व्यंग्य का पुट होते हुए भी सार्थक है ...आपका आभार सार्थक लेखन के लिए

Sunil Kumar said...

तुम्हें ठोकर देकर ही
"मंदिर का देव"बनाऊंगा
सारगर्भित पोस्ट सोचने को मजबूर करती..
शायद मैंने पहली बार आपका व्लाग देखा है लो जीवन में एक गलती और !!!!

Kailash C Sharma said...

मैं तो वह अंगारा हूँ ,
जो तुम्हारे हृदय की
तपिश को और बढ़ाऊंगा
तुम्हें ठोकर देकर ही
"मंदिर का देव"बनाऊंगा !

बहुत सुन्दर सार्थक रचना..

ZEAL said...

.

This should be our attitude if we genuinely want to motivate someone .

Thanks for this beautiful and inspiring creation.

.

रूप said...

Thank u Dr. Divya. Ur comment 'll always b a motivation too.

sandeep vyas said...

अति सुन्दर! रूप का स्वरुप देख भाव-विभोर हुआ,
आप को बधाई....!

रूप said...

Dhanywad.aaplogon ki tippaniyan mere liye urjashrot hai.