Pages

Thursday, October 14, 2010

दिल की धड़कनों ने ली हैं अंगड़ाइयां 
एक पुराना ज़ख्म फिर से उभर आया है !

3 comments:

ZEAL said...

दिल की धड़कनों ने ली हैं अंगड़ाइयां
एक पुराना ज़ख्म फिर से उभर आया है !


hmm...hota hai aisa bhi ...

.

mahendra verma said...

इन दो पंक्तियों में युगों-युगों की कहानी शामिल है।

अशोक बजाज said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति .

श्री दुर्गाष्टमी की बधाई !!!