Pages

Tuesday, December 14, 2010

कभी पली थीं खुशफहमियां तेरे आगोश मे 
अब तो गर्दिशे-बहार के दिन आ गये !

3 comments:

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

यार जब सामने हो और जुबां हो खामोश
बस समझ लो प्यार के दिन आ गए.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूब ..

ZEAL said...

hmm...happens