Pages

Sunday, January 9, 2011

प्यार से सहलाते हुए 
माथा प्यारे टामी का  
निकल पड़े हैं धूप का सेवन करने 
रसूखदार शर्मा जी !
दुलराते ,पुचकारते ,
कभी कांधे पे, कभी पीठ पर हाथ फेरते 
टामी को ' फरागत' कराने का प्रयत्न करते शर्मा जी
लीन हैं , और शायद आत्मतुष्ट भी 
टामी के बदन से आ रही है भीनी भीनी खुशबू 
उस स्प्रे की, जो उनकी 'भागवान' ने छिड़का है 
पास ही खड़ा हसरत से देखता है 'टेंगरा'
कांपता  है ठंड से. थोड़ी धूप लेने का प्रयत्न  करते हुए
लग जाता है शर्मा जी के दीवाल से.
शायद थोड़ी गर्माहट नसीब हो जाये उसे भी .
आगबबूला हो जाते हैं शर्मा जी उसे देखकर
भूंकतें  हैं दोनों निरीह टेंगरा पर.
दुबक जाता है
और सरपट दौड़ लगाता है टेंगरा.
टामी कुछ दूर तक करता है पीछा
शर्मा जी पुचकारते हैं
लौट आता है टामी
और मेरी नज़र अनायास
शर्माजी के गेट पर  पड जाती है
एक बोर्ड टंगा है
लाल अक्षरों मे शब्द मुह चिढाते हैं
गरीबों के मसीहा, समाज सेवी 
ए के शर्मा !

3 comments:

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

एक सच्चे समाजसेवी का शब्दचित्र.. वे जिस समाज का प्रतिनिधित्व करते हैं उनकी ही तो सेवा कर रहे थे बेचारे!!

रूप said...

What a nice sarcastic comment Salil ji. Thank you for motivating me.

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बेहतरीन कटाक्ष.....