Pages

Tuesday, October 25, 2011

दीपावली


दीपावली की असंख्य लड़ियों की जगमग आपके लिए सौभाग्य लेकर आये , इन्ही शुभकामनाओं के साथ यह छोटी सी कविता प्रस्तुत है ....


खुशियों की दीवाली आई
मन में नई उमंगें लाई

दीप जलाओ, ख़ुशी मनाओ
घर-आंगन को तुम महकाओ
आओ मिल-जुल मंगल गायें
तन सरसायें, मन हर्षाएं
 जीवन को झंकृत कर जायें 
दीपों ने है ज्योति जगाई

खुशियों की दीवाली आई !

ज्योति से ज्योति जगाते जाओ
रोशन कर दो , हाथ बढ़ाओ
झूमो-नाचो , मौज मनाओ 
प्रेम की तुम सौगातें पाओ 
लक्ष्मी ने है अलख जगाई 

खुशिओं की दीवाली आई  !
   

7 comments:

वन्दना said...

आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें।

सदा said...

प्रेम की तुम सौगातें पाओ
लक्ष्मी ने है अलख जगाई

खुशिओं की दीवाली आई !

दीपोत्‍सव की शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

रश्मि प्रभा... said...

दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

रूप said...

aap sabhi ko dhanyawad. prem ki sougatein payein !

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

दीपावली की शुभकामनायें

संगीता पुरी said...

खुशियों की ही तो होती है दीवाली ..
.. आपको दीपोत्‍सव की शुभकामनाएं !!

Navin C. Chaturvedi said...

आपको सपरिवार दीपावली की बिलेटेड हार्दिक शुभकामनाएं