Pages

Sunday, April 3, 2011

भारत की विश्व कप जीत पर !


जीत का जश्न मनाओ आज तुम !
झूमो, नाचो, गाओ आज तुम.

विश्व के फलक पर चमकते  सितारे की तरह
रोशन हो जाओ ,फहराओ पताके,
लहराओ आज तुम !

मेहनत तुम्हारी रंग ले के आयी है
हमने भी तुम्हारे लिए ,
आज महफिल सजाई है

सरताज हो तुम हमारे,
 आज दिया है वो अमोल तोहफा !
बस तुम ही तुम हो यहाँ आज दिल में
और अब , 
सारे जहाँ पर छा  जाओ तुम !

चलो, पूरा हुआ आज एक सपना
चूमो कप को, मिलो गले , रोको मत,
बहकने दो कदमों को .
इस सपने की हकीकत पर
ठुमके लगाओ आज तुम !

हम भी पुलकित हैं , भर आयें हैं,
 नैन आज .
इंतजार की घड़ियाँ बीत गयीं हैं अब
इस हकीकत की ज़मीं पर
लड़ियाँ दीयों के जलाओ आज तुम !

6 comments:

Sudhir Yadav said...

wow sir..
ultimate one..
apke ander kab se ye talent h???

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

जश्न मनाओ ..जीत पर सबको बधाई

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बहुत सुन्दर सामयिक प्रेरणा भरी कविता.... जीत पर बधाइयाँ

रश्मि प्रभा... said...

'wo din ' apni yah rachna vatvriksh ke liye bhejen rasprabha@gmail.com per parichay tasweer blog link ke saath

Udan Tashtari said...

बड़ी देर से आया....मगर जश्न तो मनाया ही जा सकता है...

कुछ जाम छलकें.. :)

रूप said...

manzoor ! pr kab !